Sewabharti Jabalpur : Organisational profile

मातृछाया
Sewa Bharti Jabalpur
मातृछाया के बारे में

मातृछाया- मातृछाया की संकल्पना एक ऐसे शिशु संरक्षण गृह के रूप में की गई है। जहां पर नवजात/अबोध एवं परित्यक्त शिशुओं के सम्यक पालन पोषण हेतु सभी आवष्यक व्यवस्थाओं को एक छत के नीचे सुनिष्चित किया जा सके एवं जिसे सामाजिक न्याय विभाग, मध्यप्रदेष शासन, भोपाल के आदेष क्रमांकः/एफ-3-5/2006/26-2 भोपाल, दिनांक 12/4/2006 के द्वारा मातृ-छाया को शिशु संरक्षण गृह की मान्यता प्रदान की गई है।
शिशुओं की देखभाल एवं प्रबंधन हेतु आई.सी.पी.एस. के निर्देषानुसार स्टाॅफ की व्यवस्था है। बच्चों के स्वास्थ्य की देख-रेख हेतु एक अंशकालिक चिकित्सक भी हैं, जो कि प्रतिदिन मातृछाया आते हैं। मातृछाया के कार्य संचालन हेतु पृथक से एक संचालन समिति गठित की गई है। जो कि कार्य संचालन में पूर्ण रूप से सक्रिय है। जिससे समस्त व्यवस्थाऐं स्तरानुकूल है। दत्तक ग्रहण प्रक्रिया हेतु, 5 सदस्यीय अस्थायी पोषण देखरेख एवं दत्तक ग्रहण समिति का गठन किया गया है जिसे पात्र दम्पतियों का चयन कर उन्हें मुक्त घोषित शिशुओं को अस्थायी पोषण देखरेख एवं न्यायालयीन प्रक्रिया के द्वारा दत्तक ग्रहण की कार्यवाही को सुनिश्चित करने का दायित्व दिया गया है।
शिशु विवरण-मातृछाया में प्रथम शिशु का आगमन 02, मई, 2006 को हुआ था। आज दिनांक 16 जुलाई 2015 को स्थिति निम्नानुसार है-




विवरण
बालक
बालिका
योग
कुल आए शिशुओं की संख्या
87
137
224
गोद दिये गए शिशुओं की संख्या
66
109
175
जैविक माता पिता को लौटाए गए शिशु
9
8
17
अन्य संस्थानों में स्थानांतरित
1
6
7
स्वर्गवासी शिशुओं की संख्या
5
5
10
मातृछाया में शिशुओं की वर्तमान संख्या
7
8
15

अन्य जानकारी हेतु:


कार्यालय- मातृछाया सेवाभारती जबलपुर
45, एकता नगर, एकता टाॅवर के पीछे,
एम.आर. 4 रोड, जबलपुर (म.प्र.) 482002.
फोन नं 0761-4054673
संपर्क
9425357243, 9826185737, 9893560581
Email: jabalpurmatrachhaya@gmail.com

Comments

Popular posts from this blog

Educated in SevaBharati hostel; the first doctor of Attappadi Tribal Village

All NGOs should take the lead of Sewabharati and adopt a Govt School: SDM

Sevabharathi “Anantha Kripa” A Shelter Home for patients