Sewabharti Gwalior launches Rs. 15 meal for Muraun Hospital patients


ग्वालियर। कैंटीन बंद होने के कारण चार साल से मुरैना अस्पताल परिसर में भोजन के लिए परेशान लोगों को नए साल के पहले दिन से यहां महज 15 रुपए में भोजन मिलेगा। यह सुविधा यहां सेवाभारती द्वारा शुरू की जा रही है। मरीजों को लागत से भी कम मूल्य पर भोजन उपलब्ध कराने के लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। जिला अस्पताल में मरीजों को सस्ता भोजन देने की प्लानिंग लंबे समय से चल रही थी।

शुरूआत में अस्पताल प्रबंधन ने इस सेवा कार्य की अनुमति नहीं दी, लेकिन कलेक्टर विनोद शर्मा ने इसे अच्छी पहल मानते हुए सेवाभारती को पुराने कैंटीन भवन का उपयोग करने की स्वीकृति दे दी है। स्वीकृति मिलने के बाद सेवा भारती ने बदहाल पड़े कैंटीन भवन की रंगाई-पुताई कराकर यहां भोजन बनाने और मरीजों के अटेंडरों को इसका वितरण करने के लिए तैयार कर लिया है। एक जनवरी से यहां मरीजों को महज 15 रुपए में भोजन देने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

Image may contain: tree, plant and outdoor
इसके अलावा मरीजों के लिए दूध व पानी मुफ्त में गर्म करने की सुविधा भी चालू की जाएगी। खास बात यह कि सेवा भारती सर्दियों के मौसम में मरीजों व उनके अटेंडरों को ठंड से बचाने के लिए नि:शुल्क कंबल भी उपलब्ध कराएगी। बताया गया है कि कंबल के बदले लोगों से कुछ पैसा जमा कराया जाएगा, जिसे कंबल वापस करते वक्त लौटा दिया जाएगा।
ये रहेगा भोजन का मैन्यू
मरीजों व उनके अटेंडरों को 15 रुपए में दिए जाने वाले भरपेट भोजन का मैन्यू भी तैयार कर लिया गया है। इस काम से जुड़े कृष्णकुमार शर्मा ने बताया कि भोजन की थाली में एक सब्जी, दाल, चावल व पांच रोटी परोसी जाएगी। इसके अलावा सेवा भारती जो गर्म दूध करेगी, उसमें मरीजों की जरूरत और इच्छा के अनुसार शक्कर भी डाली जाएगी।
वार्डों के बाहर लगेंगे बैनर
जिला अस्पताल परिसर में ही लागत से भी कम मूल्य पर भोजन उपलब्ध होने की जानकारी लोगों को मिल सके, इसके लिए वार्डों के बाहर सेवाभारती द्वारा बैनर लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा ऐसे स्थानों पर भी बैनर लगाए जाएंगे, जहां लोग ज्यादा उठते-बैठते हैं। बताया गया है कि भोजन के लिए सुबह 9 से 10 तथा शाम 4 से 5 बजे तक कूपन बांटे जाया करेंगे।


Source: http://www.patrika.com/news/gwalior/seva-bharti-group-provide-food-in-cheap-rate-1477570/

Comments

Popular posts from this blog

Educated in SevaBharati hostel; the first doctor of Attappadi Tribal Village

All NGOs should take the lead of Sewabharati and adopt a Govt School: SDM

Sevabharathi Kollam in relief work, Help desk for assistance.