Sewabharti Matrichchaya becomes a blessing to the Childless couple

मेरठ के दंपती की सूनी गोद में किलकारी भरेगी नन्हीं अंजली

सेवाभारती 'मातृछाया' परिवार में ऑनलाइन आवेदन किया था दंपती ने 
0 मंगलगान के बीच गोद भराई की रस्म पूरी की गई 
फोटो-18,19-दंपती को सौंपी गई बालिका 
अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि 
सेवा भारती 'मातृछाया' में पल-बढ़ रही नन्ही अंजली अब मेरठ के सर्वसुविधा संपन्न दंपती की सूनी गोद में किलकारी भरेगी। दंपती ने बच्ची को गोद लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था। बच्ची को गोद लेने की सारी प्रक्रियाएं पूरी करने के बाद सोमवार को अंबिकापुर पहुंचे दंपती के हाथों सेवा भारती प्रबंधन ने मंगलगान के बीच गोद भराई की रस्म पूरी की। दंपती के गोद में जैसे ही बच्ची आई, उनकी खुशी का ठिकाना न रहा। मंगलवार को नन्ही अंजली के साथ दंपती अपने गृहग्राम के लिए रवाना हो गए। सभी ने उन्हें बधाई दी और पूरे परिवार के यशस्वी जीवन की कामना की। 
अंबिकापुर पहुंचे मेरठ के दंपति ने नन्ही अंजली के गोद में आने के क्षण को अविस्मरणीय बताया। उन्होंने कहा कि बच्ची को गोद लेने की सारी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद भी उन्हें सहज यकीन नहीं हो रहा था कि बच्ची को लेकर वे अपने गृह क्षेत्र रवाना होंगे। बच्ची को गोद लेने के लिए किए गए आवेदन के बाद से ही घर में बच्ची की किलकारी गूंजने को लेकर काफी उम्मीदें बंध गई थी। उन्होंने बताया कि शादी के सात वर्ष बाद भी किसी कारणवश उन्हें संतान की प्राप्ति नहीं हुई, फिर भी दोनों पति-पत्नी निराश नहीं हुए। उच्च शिक्षा प्राप्त दंपती का ध्यान सेवा भारती 'मातृछाया' के बेवसाइट पर गया। इसके बाद आपस में चर्चा करके उन्होंने यहां पल रही बच्ची को गोद लेने ऑनलाइन आवेदन कर दिया था। सेवा भारती 'मातृछाया' प्रबंधन के बुलावे पर वे अंबिकापुर आए,यहां उनकी काउंसलिंग हुई। इसके बाद वे वापस चले गए थे। सेवा भारती के कार्यकर्ता ने भी दंपती के गृहक्षेत्र मेरठ जाकर उनके बारे में पूरी जानकारी हासिल की थी। सुविधा संपन्न, शिक्षित परिवार देखकर सेवा भारती प्रबंधन ने बच्ची को गोद देने हामी भरी थी। इंतजार के बाद जब बच्ची को गोद लेने की घड़ी आई और सेवा भारती 'मातृछाया' अंबिकापुर के अध्यक्ष महेंद्र सिंह टूटेजा का बुलावा आया, तो वे बिना देर किए मेरठ से रवाना हो गए। सोमवार को नवापारा स्थित मातृछाया में अनुराधा जायसवाल के आतिथ्य में दंपती को नन्हीं अंजली को सौंपा गया। इसके पूर्व मातृछाया में पूजा-अर्चना करके दीप प्रज्जवलन सेवा भारती मातृछाया के अध्यक्ष महेंद्र सिंह टूटेजा, खेर पांडे, श्रीमती थोर्राट, सेवा भारती की नींव रखने वाले भास्कर व श्री थोर्राट ने किया। अनुराधा जायसवाल सहित अन्य महिलाओं ने बच्चे को गोद में सौंपने के पूर्व सेवा भारती परिवार की ओर से मंगलगान के बीच शगुन भेंट कर, गोद भराई की रस्म पूरी की। दंपती को उपस्थितजनों ने बधाई दी और सभी के सुखद जीवन की कामना की।

Source: http://naidunia.jagran.com/chhattisgarh/merath-k-dampati-ki-suni-1111390

Comments

Popular posts from this blog

Educated in SevaBharati hostel; the first doctor of Attappadi Tribal Village

All NGOs should take the lead of Sewabharati and adopt a Govt School: SDM

Sevabharathi “Anantha Kripa” A Shelter Home for patients